IPO, FPO Full Form In Hindi, IPO Kya Hota Hai?

IPO, FPO Full Form In Hindi, IPO Kya Hota Hai?

इस पोस्ट मे आप जानेंगे की IPO तथा FPO Full Form और IPO Kya Hota Hai? क्यों बड़ी-बड़ी प्राइवेट कंपनीयां इसका प्रयोग करती है। आप मे से की लोगों के मन मे इससे संबंधि प्रश्न होंगे। तो इसे मैने नीचे पूरे विस्तार से बताया है।

Ipo Fpo Full Form in Hindi

ये समझिये कि IPO तथा FPO का प्रयोग प्राइवेट कंपनीया जो बहुत बड़ी होती है वे सभी अपनी कंपनी मे और इनवेस्टर्स को बढ़ाने के लिए ये कंपनीयाँ IPO का प्रयोग करते है। तो FPO तथा IPO के बारे मे जानने से पहले आप FPO तथा IPO Full Form को जान लीजिए।

IPO, FPO Full Form In Hindi, IPO Kya Hota Hai?
IPO, FPO Full Form In Hindi, IPO Kya Hota Hai?

FPO Full Form (एफपीओ फुल फॉर्म)

एफपीओ का फुल फॉर्म अंग्रेजी मे “Farmer Producer Organization” होता है तथा हिंदी मे इसे “किसान उत्पादक संगठन” कहते है। जिसका काम होता है किसानों द्वारा उत्पादित फसल का सही मूल्य लगा कर किसानो का फायदा पहुँचाने वाला संगठन है ये।

FPO Kya Hai?

इसे आप किसानों का एक समूह कह सकते है। किसान उत्पादक संगठन मे कई किसान मिलकर एक समूह बनाते है, ये वही लोग बनाते है। जो सही मे कृषि कार्य मे लगा हो तथा कृषि व्यावसायिक गतिविधियो मे कार्य कर रहा हो। आप एक गाव के कई किसानों या फिर की गांवों को मिलाकर यह समूह बना सकते है औऱ फिर आप इसे संगत कंपनी अधिनियम के तह पंजीकृत कराकर एक समूह बना सकते है।

इससे फायदा यह होता है कि, किसानों को पैदावार के लिए सही और उचित रकम मिलती है और जो उस पैदावार फसल को खरीदता है उसे भी उचित कीमत पर वस्तु मिलती है। इससे जो बिचौलियें होते है, जो गरीब किसान का पैसा खा जाते है, वो सब समाप्त हो जाता है। इस नाते FPO फायदेमंद होता है।

इसे भी देखें- GST Full Form In Hindi

IPO Full Form (आईपीओ फुलफॉर्म)

आईपीओका फुल फॉर्म english मे “Initial Public Offering” होता है तथा इसको हिंदी मे “प्रारंभिक सार्वजनिक प्रस्ताव” कहते है। इसका प्रयोग प्राइवेट कंपनीयां अपनी कंपनी मे नये इनवेस्टर्स को जोड़ने के लिए करते है।

IPO Kya Hota Hai?

कोई प्राइवेट कंपनी, अपनी कंपनी मे नये इनवेस्टर्स को जोड़ने के लिए, पहली बार अपने शेयरों को शेयर मार्केट मे जारी करती है तो नये-नये इनवेस्टर्स उसमे पैसा लगाते है। इसी प्रक्रिया को Initial public offering(प्रारंभिक सार्वजनिक प्रस्ताव) कहा जाता है। हाँ यहाँ, ये ध्यान रहे की प्राइवेट के साथ सरकारी कंपनीयां भी ऐसा करती है।

इस तरह से कंपनीयां मार्केट से बड़ी मात्रा मे पैसा एकत्र कर लेते है और फीर अपना काम करती रहती है। जब उनको फायदा होता है तो वह पैसों का कुछ हिस्सा उनको भी देती है जिन्होंने शुरुआत मे पैसा लगाकर शेयर खरीदा था। इसी सुविधा को IPO कहा जाता है। इसी तरह सरकारी कंपनीयां भी विनिवेश करके पूंजी बाजार से एकत्र करती है।

Also See – Telegram Bio In Hindi

FPO के लाभ

  • इसकी वजह से ग्रीन हाउस, कृषि प्रसंस्करण, कृषि मशीनीकरण, शीत भण्डारण इत्यादि जैसे कटाई पूर्व और कटाई पश्चात सभी प्रकार के संसाधनो मे सुविधा प्रदान होता है।
  • FPO संगठन मूल्य संवर्धन के लिए छंटाई या प्राथमिक प्रसंस्करण आदि जैसे कार्य शुरु करता है। जिससे संगठन के किसानों को उच्च मूल्य मिल सके।
  • यह किसानो के लिए बहुत अच्छा संगठन है। अगर किसान को अपनी फसल का सही मूल्य नहीं मिलता है तो वह इस संगठन से जुड़ कर अधिक धन कमा सकता है।
  • इससे बहुलता मे व्यापार करने से भंडारन, प्रसंस्करण, परिवहन आदि सभी खर्च को बचाने का काम करता है।
  • एफपीओ कस्टम केन्द्रों, आदान भंडारों आदि को शुरू कर अपनी व्यवसायिक गतिविधियों को विस्तारित कर सकता है।

More Full Form Of FPO & IPO

  • FPO Full Form in Military: Field Post Office
  • Full From Of FPO in Programming & Development: Frame Pointer Omission
  • FPO Ka Full Form In Hindi: किसान उत्पादक संगठन
  • IPO Full Form in Ocean Science: Interdecadal Pacific Oscillation
  • IPO Ka Full Form In Trade Associations: Intellectual Property Owners

Also, See – IDBI Se Bank Loan Kaise Milega

FAQs: IPO, FPO

IPO क्या है और इसमें कैसे निवेश करें?

जब कोई कंपनी पहली बार अपनी कंपनी के शेयर्स को लोगों को ऑफर करती है तो इसे IPO कहते हैं। कंपनियों द्वारा ये IPO इसलिए जारी किया जाता है जिससे वह शेयर बाजार में आ सके। शेयर बाजार में उतरने के बाद कंपनी के शेयरों की खरीदारी और बिकवाली शेयर बाजार में हो सकेगी।

आईपीओ का शेयर कितने का है?

कंपनी ने इससे करीब Rs 18,300 करोड़ रुपये जुटाए हैं. Paytm का आईपीओ निवेश के लिए 10 November को बंद हुआ था. कंपनी ने इस IPO के लिए प्राइस बैंड Rs 2,080 से Rs 2,150 रुपये प्रति शेयर रखा था.

LIC आईपीओ क्या है?

Demat account for LIC IPO: जीवन बीमा निगम (LIC) का आईपीओ आने वाला है. बीमा कंपनी ने अपने पॉलिसीधारकों से कहा है कि वे अपना PAN अपडेट करा लें. जिससे कि वो प्रस्‍तावित पब्लिक ऑफर में बोली लगा सके. … एलआईसी के प्रस्‍तावित इश्‍यू प्‍लान के मुताबिक, आईपीओ इश्‍यू साइज का 10 फीसदी तक हिस्‍सा पॉलिसीधारकों के लिए रिजर्व्‍ड होगा.

IPO , FPO Kya Hota Hai?

फॉलो-ऑन पब्लिक ऑफर (Follow-on Public Offer-FPO)
यह भी शेयर के लिस्ट होने के बाद पूंजी जुटाने का एक तरीका है लेकिन इसमें एप्लीकेशन और अलॉटमेंट के लिए एक अलग प्रक्रिया अपनाई जाती है। FPO में शेयर को डाइल्यूट (Dilute) किया जा सकता है और नए शेयर भी जारी किए जा सकते हैं जिन्हें निवेशकों को एलॉट किया जा सकता है।

आईपीओ का फुल फॉर्म क्या है?

IPO Full Form in Hindi है – “इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग”। यह किसी कंपनी द्वारा ‘सार्वजनिक’ मतलब पब्लिक होने के लिए उठाया गया पहला कदम है। इसका सीधा सा मतलब है कि कोई कंपनी IPO के द्वारा स्टॉक एक्सचेंज में लिस्ट होने के योग्य हो जाती है। कंपनी के सार्वजनिक होने का फैसला करने के कई कारण हैं।

निष्कर्ष

तो आपको यह पोस्ट कैसा लगा जरूर बताएं। मैने इस पोस्ट मे IPO तथा FPO Full Form In Hindi मे बता दिया है तथा आईपीओ क्या होता है तथा एफपीओ क्या है इसकी पूरी जानकारी मैने यहाँ देदी है। अगर इससे संबंधि कोई प्रश्न आपके मन मे हो तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है।

Leave a Comment